Blogging Fusion Blog Directory the #1 blog directory and oldest directory online.

Roshandaan

Home Roshandaan

Roshandaan

Rated: 4.00 / 5 | 238 listing views Roshandaan Blogging Fusion Blog Directory

India/Haryana

 

General Audience

  • Narender Singh
  • December 02, 2019 07:59:29 AM
SHARE THIS PAGE ON:

A Little About Us

Interesting & Amazing Facts and Indian Culture in Hindi

Listing Details

Listing Statistics

Add ReviewMe Button

Review Roshandaan at Blogging Fusion Blog Directory

Add SEO Score Button

My Blogging Fusion Score

Google Adsense™ Share Program

Alexa Web Ranking: 398,740

Alexa Ranking - Roshandaan

Example Ad for Roshandaan

This what your Roshandaan Blog Ad will look like to visitors! Of course you will want to use keywords and ad targeting to get the most out of your ad campaign! So purchase an ad space today before there all gone!

https://www.bloggingfusion.com

.

notice: Total Ad Spaces Available: (2) ad spaces remaining of (2)

Advertise Here?

  • Blog specific ad placement
  • Customize the title link
  • Place a detailed description
  • It appears here within the content
  • Approved within 24 hours!
  • 100% Satisfaction
  • Or 3 months absolutely free;
  • No questions asked!

Subscribe to Roshandaan

Slogan on Save Water in Hindi | 39 पानी बचाओ नारे

क्या आप पानी बचाओ पर नारे (Slogan on Save Water) ढूंढ रहे हैं? तो आप सही जगह पर हैं। हमने विशेष रूप से आपके...

क्या आप पानी बचाओ पर नारे (Slogan on Save Water) ढूंढ रहे हैं? तो आप सही जगह पर हैं। हमने विशेष रूप से आपके लिए “पानी बचाओ” पर सबसे अच्छे और आकर्षक नारे एकत्र किए हैं। और आप अपने स्कूल और कॉलेज के असाइनमेंट में पानी बचाने पर इन नारों का उपयोग कर सकते हैं।

पानी पृथ्वी पर जीवन के लिए जिम्मेदार प्रमुख तत्वों में से एक है, अगर पानी नहीं होता तो पृथ्वी पर जीवन नहीं होता।

कई देशों के लोग पीने के पानी की बर्बादी करते हैं, जिसके कारण दूसरे हिस्सों में कई लोगों को पीने के लिए पर्याप्त पानी नहीं मिलता है। हर देश को पानी को बचाने और संरक्षित करने के लिए कुछ पहल करने की जरूरत है ताकि सभी को पर्याप्त पीने योग्य पानी मिल सके।

पानी की बचत एक आवश्यकता है, इसका मतलब है कि हमारे पानी की आपूर्ति का उपयोग बुद्धिमानी से इसे बचाने की जिम्मेदारी के साथ करें और अनावश्यक पानी के उपयोग को कम करें।

हमें जल को प्रदूषण से बचाना और आज पानी की बचत करना है ताकि अगले आने वाले वर्षों के लिए पर्याप्त आपूर्ति हो।

पानी बचाने के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए “पानी बचाओ” पर कुछ दिलचस्प और प्रेरक नारे दिए गए हैं जो समाज में लोगों को पानी बचाने के लिए प्रोत्साहित करेंगे।

यहां तक कि हमने विशेष रूप से आपके लिए Poster on Save Water with Slogan बनाए हैं क्योंकि पानी की बचत हमारी भावी पीढ़ी के लिए महत्वपूर्ण है और हमारे लिए भी।

“पानी बचाओ” इन नारों को जितना हो सके पर फैलाओ क्योंकि यह सिर्फ कुछ सेकंड का मामला है।

Slogan on Save Water in Hindi

save water save life slogan in hindi

#1. रेगिस्तान में चलो, आपको पानी की कीमत का एहसास होगा।

#2. पानी की एक बूंद प्यासे आदमी के लिए सोने की एक बोरी से भी ज्यादा कीमत की है।

#3. कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कितने अमीर हैं, आप पानी के बिना नहीं रह सकते।

#4. पृथ्वी पर उपकार करो, जल सेवक बनो।

#5. यह बाल्टी में सिर्फ एक बूंद नहीं है, “यह स्वयं जीवन है”।

#6. पानी बचाने के कई तरीके हैं और वे सभी आपके साथ शुरू होते हैं।

#7. कम से कम अपने बच्चों के लिए पानी बचाएं।

#8. हजारों प्यार के बिना रहते हैं, पानी के बिना कोई नहीं। जल बचाओ।

#9. शुद्ध पानी = बेहतर जीवन। इसे बर्बाद मत करो।

#10. पानी का उपयोग करें, लेकिन कभी भी पानी की बर्बादी न करें।

Save Water Poster with Slogan

#11. आप 60% पानी हैं। अपने आप को 60% बचाएं।

#12. जल पृथ्वी की आत्मा है, दोनों को अलग मत करो।

#13. पानी को सिंक में न जाने दें। हमारा जीवन कगार पर है!

#14. पानी बचाओ – पृथ्वी के खून को बर्बाद मत करो।

#15. यदि हम अभी पानी की देखभाल करते हैं, तो यह वर्तमान और भविष्य में हमारी देखभाल करेगा।

#16. आज का वर्षा जल कल का जीवन रक्षक है।

#17. एक बूंद भी जीवन ला सकती है! जल बचाओ!

#18. पानी के संरक्षण की आदत सबसे अच्छी आदत है।

#19. जीवन जल पर निर्भर करता है और जल संरक्षण हम पर निर्भर करता है।

#20. जब सारा पानी निकल गया और सूख गया, तो क्या तुम अब भी रोने के लिए आँसू बहाओगे?

यहाँ भी जाएँ – जल संरक्षण पर निबंध

Save Water Save Life Slogans in Hindi

पानी बचाओ पर नारे
पानी बचाओ पर नारे

#21. जल नहीं – जीवन नहीं।

#22. पानी जीवन का स्रोत नहीं है, यह जीवन ही है।

#23. हरा रहने के लिए बहुत नीला (पानी) लगता है।

#24. जल = जीवन, संरक्षण = भविष्य!

#25. पानी के बिना एक दिन की कल्पना करो।

#26. पानी को खराब न करें, अन्यथा, आपके बच्चों को प्रदूषित पानी पीना होगा।

#27. पानी से होने वाली बीमारी के कारण हर साल 40 लाख लोगों की मौत हो जाती है।

#28. जल का संरक्षण जीवन का संरक्षण है।

#29. यदि हम पानी के चक्र का ध्यान नहीं रखते हैं, तो यह हमारे जीवन चक्र का ध्यान नहीं रखेगा। इसलिए पानी बचाएं।

#30. जल बचाओ। यह पेड़ों पर नहीं उगता है।

यहाँ भी जाएँ – बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध

पानी बचाओ पर नारे

save water slogan
Slogan on Save Water in Hindi

#31. पानी को बचाना हर धर्म सिखाता है।

#32. पानी का उपयोग करने और पानी बर्बाद करने के बीच एक पतली रेखा है।

#33. जरूरत पड़ने पर पहले पानी बचाएं।

#34. पानी के हिसाब से बागवानी करें।

#35. कार को बाल्टी से धोएं, स्प्रे से नहीं।

#36. पानी की हर बूंद मायने रखती है क्योंकि हर बूंद में जीवन है।

#37. जल ही जीवन है! पानी बचाओ, जीवन बचाओ।

#38. अगर जल ही जीवन है, तो हम इसे क्यों बर्बाद कर रहे हैं।

#39. जल ही कल का भगवान है।

अपने कुल पानी के उपयोग का अनुमान लगाने के लिए, यहां जाएं.

हम स्कूल में पानी कैसे बचा सकते हैं?

#1. अनावश्यक रूप से टॉयलेट को फ्लश करने से बचें।
#2. स्कूलों में लीक का पता लगाएं और मरम्मत करें ताकि पानी की बर्बादी कम हो।
#3. यदि नल का उपयोग नहीं कर रहे हैं, तो इसे बंद कर दें।
#4. अपने ब्रश धोने के लिए एक कंटेनर का उपयोग करें।

पानी बचाओ पर कोई 4 नारे कौन से हैं?

#1. पानी बचाओ – पृथ्वी के खून को बर्बाद मत करो।
#2. हरा रहने के लिए बहुत नीला लगता है।
#3. पानी उपयोग करें, बर्बाद नहीं।
#4. जल बचाओ। यह पेड़ों पर नहीं उगता है।

हम पानी कैसे बचा सकते हैं?

#1. चीज़ों को धोने की बजाए गीले कपड़े से सफाई करें।
#2. अपने टॉयलेट टैंक में प्लास्टिक की बोतल रखें।
#3. अपनी स्वचालित मशीन का उपयोग केवल पूर्ण भार (full load) के लिए ही करें।
#4. पाइप, होज़, नल और कपलिंग में लीक की जाँच करें।

घर पर पानी बचाने के 5 पाँच तरीके क्या हैं?

#1. थोड़ा स्नान करें।
#2. सब्जियों को साफ करते समय नल न चलने दें।
#3. पानी का मीटर स्थापित करें।
#4. वर्षा जल संचयन तकनीकों का उपयोग करें।
#5. जरूरत पड़ने पर ही पौधों को पानी दें।

The post Slogan on Save Water in Hindi | 39 पानी बचाओ नारे appeared first on रोशनदान.


जल संरक्षण पर निबंध Essay on Save Water in Hindi

पानी की कमी एक सार्वभौमिक समस्या है। तो यह हमारे ग्रह के सभी जिम्मेदार नागरिकों...

पानी की कमी एक सार्वभौमिक समस्या है। तो यह हमारे ग्रह के सभी जिम्मेदार नागरिकों द्वारा संयुक्त रूप से निपटने के लिए है। हमें न केवल अपने लिए बल्कि अपनी आने वाली पीढ़ियों के लिए भी जल संरक्षण की जरूरत है।

जल संरक्षण जीवन संरक्षण के बराबर है!

Save Water Essay in Hindi (200 Words)

मानवता के लिए प्रकृति का सबसे कीमती उपहार पानी है। पानी को ‘जीवन’ भी कहा जा सकता है क्योंकि इस धरती पर जीवन की कल्पना पानी के बिना कभी नहीं की जा सकती है।

पृथ्वी को “नीला ग्रह” कहा जाता है। क्योंकि यह ब्रह्मांड का एकमात्र ज्ञात ग्रह है जहां पर्याप्त मात्रा में प्रयोग करने योग्य पानी मौजूद है। पृथ्वी के सतह के स्तर का लगभग 71 प्रतिशत पानी है। इस पृथ्वी का अधिकांश पानी समुद्रों और महासागरों में पाया जाता है। नमक की अत्यधिक उपस्थिति के कारण उन पानी का उपयोग नहीं किया जा सकता है। पृथ्वी पर पीने योग्य पानी का प्रतिशत बहुत कम है।

इस पृथ्वी के कुछ हिस्सों में, लोगों को शुद्ध पीने योग्य पानी इकट्ठा करने के लिए लंबी दूरी तय करनी पड़ती है। लेकिन इस धरती के अन्य हिस्सों में, लोग पानी के मूल्य को नहीं समझते हैं। इस ग्रह पर पानी की बर्बादी एक ज्वलंत मुद्दा बन गया है। पानी की एक बड़ी मात्रा मनुष्य द्वारा नियमित रूप से बर्बाद की जाती है।

हमें इस खतरे से बचने के लिए पानी की बर्बादी को रोकने की जरूरत है। पानी को बर्बाद होने से बचाने के लिए लोगों में जागरूकता फैलाई जानी चाहिए।

save water in hindi
Save Water

Essay on Save Water in Hindi (350 Words)

इस धरती पर भगवान की ओर से हमारे लिए सबसे कीमती उपहार है – पानी। हमारे पास पृथ्वी पर पानी की प्रचुरता है, लेकिन पृथ्वी पर पीने के पानी का प्रतिशत बहुत कम है। उन पानी का केवल 0.3% उपयोग करने योग्य है।

इस प्रकार पृथ्वी पर पानी को बचाने की आवश्यकता है। ऑक्सीजन के अलावा, पृथ्वी पर प्रयोग करने योग्य पानी की मौजूदगी से जीवन का अस्तित्व होता है। इसलिए पानी को ‘जीवन’ के रूप में भी जाना जाता है। पृथ्वी पर, हमें समुद्रों, महासागरों, नदियों, झीलों, तालाबों आदि में हर जगह पानी मिलता है, लेकिन हमें शुद्ध या रोगाणु मुक्त पानी की आवश्यकता होती है।

हमें अपने दैनिक कार्यों में सुबह से रात तक पानी की आवश्यकता होती है। हम पीने के लिए पानी का उपयोग करते हैं, स्नान करते हैं, अपने कपड़े साफ करते हैं, खाद्य पदार्थ, बागवानी, फसल, और कई अन्य गतिविधियाँ करते हैं। इसके अलावा, हम जल का उपयोग जल-विद्युत उत्पन्न करने के लिए करते हैं। पानी का उपयोग विभिन्न उद्योगों में भी किया जाता है। इस प्रकार यह बहुत स्पष्ट है कि हम पानी का उपयोग किए बिना एक दिन की भी कल्पना नहीं कर सकते। तो इस नीले ग्रह पर हमारे अस्तित्व के लिए पानी की बचत की आवश्यकता है।

लेकिन दुर्भाग्य से लोग इसे नजरअंदाज करते हुए नजर आते हैं। हमारे देश के कुछ हिस्सों में पीने का पानी मिलना अभी भी एक चुनौती भरा काम है। लेकिन कुछ अन्य हिस्सों में जहां पानी उपलब्ध है, लोग पानी बर्बाद करते नजर आते हैं। निकट भविष्य में, वे इस चुनौती का भी सामना करेंगे।

हमें ध्यान रखना चाहिए, ‘पानी बचाओ जीवन बचाओ’ और इसे बर्बाद न करने का प्रयास करना चाहिए।

पानी को कई तरह से बचाया जा सकता है। पानी के संरक्षण के 100 तरीके हैं। जल संरक्षण का सबसे सरल तरीका वर्षा जल संचयन है। हम वर्षा जल को संरक्षित कर सकते हैं और उन पानी का उपयोग हमारी दैनिक गतिविधियों में किया जा सकता है। शुद्धिकरण के बाद पीने के लिए भी वर्षा जल का उपयोग किया जा सकता है। हमें पता होना चाहिए कि अपने दैनिक जीवन में पानी की बचत कैसे करें ताकि निकट भविष्य में हमें पानी की कमी का सामना न करना पड़े।

यह भी पढ़ें – पर्यावरण बचाओ पर नारे

जल संरक्षण पर निबंध Essay on Water Conservation in Hindi (450 Words)

essay on water conservation in hindi
Essay on Water Conservation in Hindi – जल संरक्षण पर निबंध

हमारे ग्रह का 97% भाग खारे पानी में समाया हुआ है जिसे हम पीने के लिए उपयोग नहीं कर सकते हैं। बायाँ 3% पानी प्रयोग करने योग्य है लेकिन 2% भी ग्लेशियरों और बर्फ से अवरुद्ध है। इसलिए, हमारे पास केवल 1% बचा है।

तो, अब, कुछ ऐसा महसूस करें जो बताता है कि जल संरक्षण हमारे लिए क्यों महत्वपूर्ण है। हम केवल पानी के एक छोटे प्रतिशत पर निर्भर हैं, इसलिए यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम इसे प्रदूषित और दुरुपयोग न करें। हममें से प्रत्येक को यह जानना चाहिए कि जल को कैसे बचाया और संरक्षित किया जाए ।।

यह भी पढ़ें – शिक्षा का महत्त्व

आइए जानते हैं जल संरक्षण के कुछ तरीके। (Jal Sanrakshan in Hindi/Water Conservation Methods in Hindi/How to save water in Hindi)

जल संरक्षण के तरीके

जल संरक्षण करने के लिए कई तरीकों का इस्तेमाल किया जा सकता है:-

  1. पानी को प्रदूषण से बचाकर हम बहुत सारे पानी को बचा सकते हैं।
  2. यदि कृषि-जलवायु परिस्थितियों में किसानों द्वारा फसलें उगाई जाती हैं, तो अतिरिक्त पानी की आवश्यकता नहीं होगी।
  3. भूतापीय पानी का उपयोग करके।
  4. हम विशेष रूप से भारत जैसे देश में, पारंपरिक जल संसाधनों को नवीनीकृत करके पानी का संरक्षण कर सकते हैं।
  5. उद्योगों में उपयोग होने वाले पानी की बचत करके
  6. भूजल के तर्कसंगत उपयोग पर विचार करें। यह पानी बचाने में मददगार हो सकता है।
  7. कृषि क्षेत्र में आधुनिक सिंचाई विधियों का उपयोग पानी बचाने में भी मदद कर सकता है।
  8. बाढ़ प्रबंधन की मदद से पानी को बचाया भी जा सकता है।
  9. नगरपालिका एजेंसियों का मार्गदर्शन करके भी पानी बचाया जा सकता है।
  10. वर्षा जल के संग्रहण के माध्यम से भी जल संरक्षण किया जा सकता है। फिल्ट्रेशन सिस्टम स्थापित करने के बाद, इस पानी को आसानी से बागवानी, लॉन सिंचाई या शौचालय के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। आप छोटे पैमाने पर खेती के लिए वर्षा जल संचयन के माध्यम से संग्रहीत पानी का उपयोग भी कर सकते हैं।

जल संरक्षण के घरेलु तरीके

  1. अपने दाँत ब्रश करते समय नल बंद करें। इससे बहुत सारा पानी संरक्षित किया जा सकता है। इसके अलावा, अपने बच्चों को भी ऐसा करने के लिए शिक्षित करें। इस अभ्यास का पालन करके, आप हर महीने कम से कम 400 लीटर से अधिक पानी बचा सकते हैं।
  2. सिंक या शौचालय में एक छोटे से रिसाव से अतिरिक्त पानी का उपयोग हो सकता है। इस तरह के छोटे लीक से सावधान रहें क्योंकि इससे पानी के संरक्षण में मदद मिल सकती है।
  3. आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि सिर्फ थोड़े समय के स्नान से आप बहुत सारे पानी के संरक्षण में मदद कर सकते हैं। अगली बार, थोड़े समय के लिए स्नान करने का वादा करें।
  4. आपको पानी का उपयोग करने के बजाय फर्श की सफाई करने के लिए झाड़ू या लत्ता का उपयोग करना याद रखना चाहिए।
  5. अपनी दैनिक जरूरतों के लिए ऊर्जा-कुशल उपकरण जैसे कि बाथटब, सिंक सिस्टम आदि खरीदना बहुत सारा पानी बचा सकता है।
जल संरक्षण के उपाय निबंध
जल संरक्षण के तरीके

यह भी पढ़ें – बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध/भाषण/pdf

Save Water Essay – Water Conservation in Hindi (800 words)

पानी मानवता के लिए प्रकृति का एक अनमोल उपहार है। पानी प्रकृति में उन सबसे महत्वपूर्ण तत्वों में से एक है जो इस धरती पर जीवन का समर्थन करता है। हमें खाना पकाने, कपड़े धोने, स्नान करने, खेती करने और अन्य चीजों के लिए पानी की आवश्यकता होती है।

हाल के कुछ वर्षों में, पानी के उपयोग के लापरवाह तरीके से दुनिया के विभिन्न हिस्सों में पानी की कमी हो गई है। यहीं पर जल संरक्षण की जरूरत आती है। जल के बिना पृथ्वी पर जीवन संभव नहीं है। इसलिए, पृथ्वी पर जीवन को बनाए रखने के लिए पानी का संरक्षण काफी महत्वपूर्ण है।

पृथ्वी की सतह का लगभग तीन-चौथाई भाग पानी से ढका हुआ है। हालाँकि, इस जल का लगभग 97% भाग खारे पानी का है। और यह मानव उपभोग के लिए उपयुक्त नहीं है जो महासागरों के रूप में मौजूद है। पृथ्वी पर कुल पानी का केवल 3% पानी पीने के लिए उपयुक्त है।

उपलब्ध पेयजल का 70% उपभोग के लिए उपयुक्त नहीं है क्योंकि यह ग्लेशियरों और बर्फ की चादरों के रूप में मौजूद है। प्राप्य पेयजल का केवल 1% स्वच्छ पेयजल के रूप में उपलब्ध है और मानव उपभोग के लिए उपयुक्त है।

यह अनुमान है कि दुनिया में एक अरब से अधिक लोग अपने अस्तित्व के लिए इस 1% स्वच्छ पेयजल पर निर्भर हैं। यहाँ से यह स्पष्ट होता है कि हमें पानी का विवेकपूर्ण उपयोग करने की आवश्यकता है ताकि अन्य लोगों को पानी की कमी का सामना न करना पड़े।

जल संकट के बारे में चौंकाने वाले तथ्य

कुछ साल पहले दुकानों में लोगों को शुद्ध पानी की बोतलें बेचते हुए देखना काफी चौंकाने वाला था। हालाँकि आज, पानी के संकट में वृद्धि के साथ, यह दृष्टि दुनिया के विभिन्न हिस्सों में काफी आम हो गई है। अनुमान है कि बोतलबंद पानी की कीमत 4 लाख करोड़ – 6 लाख करोड़ रुपये है जो हर साल दुनिया भर के लोगों द्वारा उपयोग किया जा रहा है। वैज्ञानिकों द्वारा किए गए हालिया अध्ययनों के अनुसार, अगर हम विवेकपूर्ण तरीके से पानी नहीं बचाते हैं, तो 2025 तक दुनिया भर में 30 करोड़ से अधिक लोग पानी की कमी के संकट की चपेट में आ जाएंगे।

हाल के निष्कर्षों के अनुसार, यह पता चला है कि लगभग 25% शहरी आबादी को पीने के पानी तक पहुंच नहीं है। इसके अलावा, यह भी पाया गया है कि 40 लाख से अधिक लोग पानी से संबंधित बीमारियों के कारण मर रहे हैं। विकासशील देश अस्वच्छ और गंदे पानी से होने वाली बीमारियों से बेहद ग्रस्त हैं। भारत में भी विभिन्न जल जनित रोगों से पीड़ित लोगों की संख्या काफी अधिक है। इससे भारतीय अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है।

किए गए एक अध्ययन के अनुसार, यह बताया गया है कि राजस्थान में लड़कियों को पानी लाने के लिए लंबी दूरी तय करनी पड़ती है। यह उनका पूरा दिन खाता है और उन्हें स्कूल जाने के लिए समय नहीं मिलता है। यह पता चला है कि किसानों की आत्महत्या के कुछ मामले सूखे या पानी की कमी के कारण हैं। इससे यह स्पष्ट है कि पानी की कमी भारत और अन्य विकासशील देशों में कुछ सामाजिक समस्याओं का कारण है।

जल संरक्षण कैसे करें?

जल संरक्षण के लिए बस हमें अपनी दैनिक गतिविधियों में कुछ सकारात्मक बदलाव लाने होंगे।

  1. हर उपयोग के बाद पानी के नल को बंद करना और सब्जियों और फलों को पानी से धोने की बजाय पानी से भरे बर्तन में धोना शामिल है।
  2. नहाने और धोने के लिए मग और बाल्टी का उपयोग करने से 450 लीटर पानी बचाया जा सकता है। इसी तरह, पूरी तरह से भरी डिशवॉशर और वॉशिंग मशीन का उपयोग करने से प्रति माह लगभग 2 से 2.4 किलोलीटर पानी की बचत होगी।
  3. लोगों को अपने बगीचों और लॉन में पानी की जरूरत होने पर ही पानी देना चाहिए। दोपहर के समय पौधों को पानी देने से बचें, खासकर 11 बजे से 4 बजे के बीच, क्योंकि अधिकांश पानी वाष्पित हो जाता है।
  4. पृथ्वी के जिम्मेदार नागरिकों के रूप में, हमें त्योहार के दौरान पानी की भारी बर्बादी को रोकने के लिए सूखी होली खेलने को बढ़ावा देना होगा।
  5. पानी को बचाने के लिए रिसाव को रोकने के लिए रिसाव वाले जोड़ों और नल को सही से ठीक किया जाना चाहिए। इससे हर दिन लगभग 60 लीटर पानी बचाया जा सकता है।
  6. ग्रामीण स्तर पर सरकार या नागरिक प्रबंधन अधिकारियों द्वारा वर्षा जल संचयन शुरू किया जाना चाहिए। वर्षा जल को संग्रहित करने के लिए बड़े या छोटे तालाब खोदे जा सकते हैं। बचाए गए पानी का उपयोग स्नान, कपड़े धोने, शौचालय, विभिन्न वस्तुओं को धोने, पौधों को पानी देने आदि के लिए किया जा सकता है।

अपने कुल पानी के उपयोग का अनुमान लगाने के लिए, यहां जाएं.

पानी बचाना जीवन बचाने के बराबर है! तो आइए हम अपनी पृथ्वी को रहने के लिए सुरक्षित और सुंदर जगह बनाने की प्रतिज्ञा करें।

The post जल संरक्षण पर निबंध Essay on Save Water in Hindi appeared first on रोशनदान.


बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध/भाषण/pdf

“Beti Bachao Beti Padhao” जैसी पहल के लिए धन्यवाद. समाज ने कम से कम यह महसूस करना शुरू कर दिया है कि...

“Beti Bachao Beti Padhao” जैसी पहल के लिए धन्यवाद. समाज ने कम से कम यह महसूस करना शुरू कर दिया है कि लड़कियों के लिए उनके समग्र विकास के लिए शिक्षा तक पहुंच होना कितना महत्वपूर्ण है। सही कौशल और ज्ञान के साथ शिक्षित महिलाएं समाज में सामाजिक-आर्थिक बदलाव लाने की शक्ति रखती हैं।

यहाँ हमारे पास अलग-अलग शब्दों की सीमाओं के साथ हिंदी में लंबे और छोटे बेटी बचाओ बेटी पढाओ पर निबंध और भाषण हैं जो व्यापक रूप से लिखे गए हैं और समझने में आसान हैं।

Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi (250 Words)

मनुस्मृति में लिखा है – “यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते रमन्ते तत्र देवता

जहां महिलाओं का सम्मान होता है, वहां भगवान का वास होता है। लेकिन वर्तमान में, ऐसा कुछ भी नहीं लगता है।

माननीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 22 जनवरी, 2015 को हरियाणा के पानीपत में बेटियों को समर्पित एक अभियान शुरू किया। उन्होंने इसे “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” अभियान कहा।

हरियाणा में लिंगानुपात की 2011 की जनगणना के अनुसार, 1000 लड़कों पर 879 लड़कियां हैं, जो बेटियों की दयनीय स्थिति को दर्शाती है, यह अभियान हरियाणा राज्य से शुरू किया गया था।

हमारे देश में पुरुषों की तुलना में महिलाओं की संख्या कम हो रही है। 0-6 वर्ष की आयु के बीच, वर्ष 1961 से 1000 लड़कों के अनुपात में लड़कियों की संख्या लगातार घट रही है। वर्ष 1991 में लड़कियों की संख्या 945 थी और 2001 में यह घटकर 927 हो गई और 2011 में यह 918 हो गई।

कम लिंगानुपात वाले 100 जिलों में यह अभियान शुरू किया गया है। “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ” अभियान के मुख्य उद्देश्यों में कन्या भ्रूण हत्या का उन्मूलन, बालिका साक्षरता का स्तर बढ़ाना, लैंगिक भेदभाव और जागरूकता अभियान के पूर्वाग्रह पर अंकुश लगाना शामिल है। साथ ही, इसके उद्देश्य में बालिका पोषण और स्वास्थ्य स्तर में सुधार, लड़कियों को आगे बढ़ने के अवसर और सुरक्षित वातावरण प्रदान करना आदि भी शामिल हैं।

अगर देश की बेटियां सुरक्षित और शिक्षित नहीं होंगी, तो देश और समाज की हालत नहीं बदलेगी। यह केवल एक सरकारी योजना नहीं है, बल्कि देश के प्रत्येक नागरिक की सामूहिक जिम्मेदारी है।

यदि हम आज सतर्क नहीं हुए तो हम न केवल अपनी पीढ़ी के लिए बल्कि अगली पीढ़ी के लिए भी भयानक संकट को आमंत्रित करेंगे।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ निबंध (350 Words)

Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi
Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi

यह अभियान प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी द्वारा देश में लड़कियों की सुरक्षा और संरक्षण से संबंधित है। यह योजना उस समय की तत्काल आवश्यकता थी क्योंकि देश की महिलाओं की बचत और सशक्तीकरण के बिना विकास संभव नहीं है।

महिलाएं देश की आधी आबादी को कवर करती हैं, इसलिए वे देश की आधी शक्ति हैं। इसलिए, उन्हें भारत के विकास में योगदान करने के लिए समान अधिकारों, सुविधाओं और अवसरों की आवश्यकता है।

यह योजना भविष्य में संरक्षण और बेहतर शिक्षा के बारे में है, जो माता-पिता पर बहुत अधिक भार डाले बिना है।

इस अभियान “Beti Bachao Beti Padhao” का समर्थन करने के लिए, भारत सरकार ने सुकन्या समृद्धि योजना के रूप में एक और कार्यक्रम शुरू किया है। इस योजना में कम उम्र में माता-पिता का बोझ कम करना शामिल है। क्योंकि, इस योजना के अनुसार, माता-पिता को मासिक आधार पर कुछ पैसे बैंक में जमा करने होते हैं, जिसके लिए उन्हें अपने बालिकाओं के भविष्य में लाभ मिलेगा, चाहे वह शिक्षा के लिए हो या विवाह के लिए।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ, सरकार का यह महत्वाकांक्षी दृष्टिकोण निश्चित रूप से भारत में महिलाओं की स्थिति में सकारात्मक बदलाव लाएगा। यह सरकार द्वारा योजनाबद्ध उद्देश्यों, रणनीतियों और कार्य योजनाओं के साथ शुरू किया गया है ताकि यह वास्तव में प्रभावी हो सके।

यह दलित लड़कियों के जीवन को बचाने और उन्हें उच्च शिक्षा के अवसर प्रदान करने के लिए है ताकि उन्हें सशक्त बनाया जा सके और सभी कार्य क्षेत्रों में भाग लिया जा सके।

इस अभियान के अनुसार, पहली आवश्यक कार्रवाई के लिए, समाज में लैंगिक भेदभाव के बारे में जागरूकता पैदा करके लड़कियों के कल्याण में सुधार के लिए लगभग 100 जिलों (कम CSR वाले) का चयन किया गया है।

इस Beti Bachao Beti Padhao अभियान का समर्थन पूरी तरह से लड़की की समस्या को हल नहीं कर सकता है, इसे भारत के सभी नागरिकों द्वारा समर्थित करने की आवश्यकता है।

लड़कियों के खिलाफ अपराधों को कम करने के लिए बनाए गए नियमों और विनियमों का कड़ाई से पालन किया जाना चाहिए और उल्लंघन करने वालों को सख्त सजा दी जानी चाहिए।

Beti Bachao Beti Padhao Essay in Hindi

bati bachao beti padhao nibandh

मेरे प्यारे दोस्तों, जैसा कि हम सभी भारतीय समाज में लड़कियों और महिलाओं के खिलाफ किए गए सभी अपराधों से अच्छी तरह परिचित हैं। बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना समाज में बिना किसी लिंग भेद के सामान्य जीवन जीने के लिए उनके और उनके जन्म-अधिकारों का समर्थन करने के लिए है।

यह अभियान बाल लिंगानुपात की प्रवृत्ति को खत्म करने के लिए महत्वपूर्ण था, जो देश में कई दशकों से लगातार कम हुआ है।

0-6 वर्ष की आयु की लड़कियों की संख्या 1991 में 945 प्रति 1000 लड़के , 2001 में 927 प्रति 1000 लड़के और 2011 में 918 प्रति 1000 लड़के थी। यह भारत सरकार के लिए एक चिंताजनक संकेत था।

यह योजना घटती हुई लड़कियों की संख्या के संबंध में उस चिंताजनक संकेत का परिणाम थी। बाल लिंग अनुपात जन्म से पहले भेदभाव, लिंग चयन और उन्मूलन, जन्म के बाद के भेदभाव, अपराध आदि के कारण था।

इस मुद्दे को हल करने के लिए भारत सरकार द्वारा 22 जनवरी 2015 को बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना शुरू की गई है। देश में लड़कियों की घटती संख्या एक राष्ट्रीय अभियान है जिसे 100 चयनित जिलों के मुख्य लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करने के लिए शुरू किया गया है, विशेष रूप से देश भर में कम सीएसआर में।

यह स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, मानव संसाधन विकास मंत्रालय और महिला और बाल विकास मंत्रालय द्वारा समर्थित एक संयुक्त पहल है।

Beti Bachao Beti Padhao अभियान का मुख्य लक्ष्य पूरे भारत में बालिकाओं को बचाना और लड़कियों को शिक्षित करना है। अन्य उद्देश्य लिंग-चयनात्मक गर्भपात को समाप्त कर रहे हैं और लड़कियों के अस्तित्व और सुरक्षा को सुनिश्चित करते हैं। यह उन्हें एक उचित शिक्षा और सुरक्षित जीवन पाने के लिए सक्षम करना है।

लगभग 100 जिले, जो लिंग अनुपात में कम हैं (2011 की जनगणना के अनुसार), इस अभियान के बेहतर और सकारात्मक प्रभाव के लिए चुने गए हैं।

इस योजना की प्रभावशीलता के लिए विभिन्न रणनीतियों की आवश्यकता है। इसमें लड़कियों के मूल्यों और उनकी शिक्षा के बारे में सामाजिक गतिशीलता और तेज संचार की आवश्यकता है। कम सीएसआर वाले जिलों को पहले से बेहतर स्थिति में सुधार करने के लिए लक्षित किया जाना चाहिए। इस सामाजिक परिवर्तन के लिए सभी नागरिकों, विशेषकर युवाओं और महिलाओं के समूहों से जागरूकता, सराहना और समर्थन की आवश्यकता है।

यह राष्ट्रव्यापी अभियान लड़कियों को बचाने और शिक्षित करने के लिए जनता के बीच जागरूकता बढ़ाने के लिए शुरू किया गया है। इस अभियान का लक्ष्य यह सुनिश्चित करना है कि लड़कियों का जन्म, शिक्षा, पोषण, बिना भेदभाव के हो।

यह भी पढ़ें – शिक्षा का महत्त्व

बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना की मुख्य विशेषताएं

बालिकाओं की सुरक्षा

भारत जैसे देश में, हम अक्सर कन्या भ्रूण हत्या के बारे में पढ़ते हैं। बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना भारत सरकार द्वारा इस तरह की अमानवीय प्रथाओं को रोकने और बालिकाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एक बेहतरीन कदम है।

शिक्षा में महिलाओं की भागीदारी को बढ़ावा देना

बेटी बचाओ बेटी पढाओ की सबसे महत्वपूर्ण विशेषताओं में से एक यह सुनिश्चित करना है कि देश की हर लड़की की शिक्षा तक पहुंच हो। एक देश केवल तभी विकसित और समृद्ध हो सकता है जब पुरुष और महिला दोनों शिक्षित हों।

लिंग अनुपात में सुधार

यह योजना दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड राज्यों में बाल लिंग अनुपात में सुधार के उद्देश्य से शुरू की गई थी। भ्रूण हत्या को गैरकानूनी माना जाता है और जो लोग ऐसा करते हैं उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाती है। यह योजना ऐसी प्रथाओं पर नजर रखने में मदद करती है क्योंकि किसी देश की सफलता को उसकी महिला नागरिकों के जीवन की गुणवत्ता से मापा जाता है।

“जब लड़कियों को शिक्षित किया जाता है, तो उनके देश अधिक मजबूत और समृद्ध हो जाते हैं”

मिशेल ओबामा

बाल विवाह रोकने के लिए

बाल विवाह भारत में लड़कियों के खिलाफ क्रूर प्रथाओं में से एक है और कुछ ऐसी चीजें हैं जिन्हें समाज से पूरी तरह से धोया जाना चाहिए। 10 वर्ष से कम उम्र की लड़की को ऐसे व्यक्ति से शादी करने के लिए मजबूर किया जाता है जो उससे बड़ा होता है।

बाल विवाह से मानसिक और शारीरिक उत्पीड़न होता है और ऐसी लड़कियां अक्सर घरेलू हिंसा का भी शिकार होती हैं। बेटी बचाओ बेटी पढाओ ने बाल विवाह को रोकने और लैंगिक समानता को काफी हद तक बढ़ावा देने में मदद की है।

लिंग समानता को बढ़ावा देना

बेटी बचाओ बेटी पढाओ लैंगिक समानता को बढ़ावा देता है। कई दशकों से, भारत में महिलाओं को व्यक्तिगत और पेशेवर दोनों मोर्चे पर बहुत भेदभाव का सामना करना पड़ रहा था। इस पहल के माध्यम से, ऐसे मामलों की संख्या कम हो गई है।

Beti Bachao Beti Padhao Speech in Hindi

सभी को सुप्रभात। मैं तुम्हारा नाम हूँ। मैं इस अवसर पर बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के विषय पर भाषण देना चाहूंगा।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ पूरे भारत में लड़कियों को बचाने और लड़कियों को शिक्षित करने के लिए एक प्रभावी अभियान है। यह भारत सरकार द्वारा भारत की लड़कियों के लिए कल्याणकारी सेवाओं की दक्षता में सुधार लाने के साथ-साथ जागरूकता फैलाने के उद्देश्य से चलाई गई योजना है।

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना के तहत सुकन्या समृद्धि योजना (21 जनवरी, 2015 को लॉन्च) की शुरुआत की है। इस योजना का समर्थन करने के लिए, सुकन्या समृद्धि योजना को स्वास्थ्य, उच्च शिक्षा, और विवाह जैसी बालिकाओं के आवश्यक खर्चों को पूरा करके इसे सफल बनाने के लिए शुरू किया गया था।

यह योजना बालिकाओं के जीवन के लिए एक अच्छी शुरुआत है क्योंकि इसमें भारत सरकार के कुछ प्रभावी प्रयास शामिल हैं। यह अब तक की सबसे अच्छी योजना है क्योंकि यह माता-पिता के तनाव को कम करता है और साथ ही वर्तमान और भविष्य में जन्म लेने वाली लड़कियों के जीवन को वार्षिक आधार पर इस छोटे से निवेश के माध्यम से बचाता है।

यह परियोजना 100 करोड़ रुपये की प्रारंभिक राशि के साथ शुरू की गई थी। यह बताया गया है कि भारत के प्रमुख शहरों में महिलाओं की सुरक्षा को आश्वस्त करने के लिए, गृह मंत्रालय इस योजना पर लगभग 150 करोड़ रुपये खर्च करेगा।

2011 की जनगणना के अनुसार, भारत में लड़कियों (आयु समूह 0-6 वर्ष) की संख्या 2011 में प्रति 1000 लड़कों पर 918 लड़कियां थी। इसके बारे में 2012 में, यूनिसेफ ने 195 देशों में भारत को 41 वें स्थान पर रखा था।

लड़कियों की संख्या में इतनी बड़ी गिरावट देश में महिलाओं के सशक्तिकरण में कमी का संकेत थी। लड़कियों की संख्या में यह भारी कमी जन्म से पहले भेदभाव, लिंग-पक्षपाती लिंग चयन, जन्म के बाद लिंग असमानता, महिलाओं के खिलाफ अपराध आदि के कारण थी।

इस योजना के शुभारंभ पर, श्री नरेंद्र मोदी ने लोगों से कन्या भ्रूण हत्या को रोकने और कन्याओं की बेहतरी के लिए बेटियों को बचाने के लिए कहा।

नरेंद्र मोदी जी द्वारा 22 जनवरी, 2015 को अभियान शुरू किया गया था। इसकी शुरुआत सबसे पहले हरियाणा के पानीपत से हुई थी। देश में गिरते लिंगानुपात की प्रवृत्ति ने इस कार्यक्रम की आवश्यकता को जन्म दिया है।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के उद्देश्य हैं :

  • लड़कियों की उत्तरजीविता, सुरक्षा और उच्च शिक्षा सुनिश्चित करना।
  • उच्च शिक्षा के माध्यम से महिलाओं के सशक्तिकरण और सभी कार्य क्षेत्रों में समान भागीदारी सुनिश्चित करना।
  • लिंग भेदभाव को रोकने के लिए, लडकियों के जन्म से पूर्व लिंग जांच को समाप्त करना।
  • सभी लड़कियों की स्थिति में वृद्धि, विशेष रूप से भारत में शीर्ष 100 चयनित जिलों (जो CSR में कम हैं) में।
  • स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, महिला और बाल विकास मंत्रालय और मानव संसाधन विकास मंत्रालय मिलकर लड़कियों के कल्याण के लिए काम करते हैं।

आप सभी को धन्यवाद।

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर भाषण – Beti Bachao Beti Padhao Speech in Hindi

[अभिवादन] आज, अभियान ने हमें अपनी बेटियों की स्थिति में सुधार करने में मदद की है, लेकिन यह अभी भी पर्याप्त नहीं है। यह मन के लिए एक बड़ी पीड़ा है कि जिस देश की एक महान संस्कृति है, देश की महान परंपराएं हैं, शास्त्रों में सबसे अच्छी चीजें हैं, वेदों से लेकर विवेकानंद तक।

लेकिन क्या कारण है, कौन सी बुराई घर कर गई है? आज हमारे ही घर में हमारी बेटियां सुरक्षित नहीं हैं, हमें समझना होगा।

मेरी नजर में किसी भी समाज के लिए कोई दर्द नहीं हो सकता। और कई दशकों से विकृत मानसिकता के कारण, गलत सोच के कारण, हमने सामाजिक कुरीतियों के कारण बेटियों के बलिदान का रास्ता चुना है। यह सुनना बहुत दर्दनाक है कि आज समाज में बेटियों की संख्या बेटों की तुलना में बहुत कम है।

जब ऐसी स्थिति पैदा होती है, तो हम समाज की दुर्दशा की कल्पना भी नहीं कर सकते हैं। समाज का चक्र पुरुष और महिला की समानता से चलता है, समाज की गतिविधि बढ़ती है। बेटा-बेटी, दोनों बराबर हैं। यदि हम इस भावना पर चलते हैं, तो हम आने वाले वर्षों में बेटियों की स्थिति में सुधार कर सकते हैं।

Beti Bachao Beti Padhao, हम सभी को एक जन आंदोलन करना होगा। हर घर से यह आवाज उठनी चाहिए कि हमें बेटी चाहिए। इस देश की सभी राज्य सरकारों को इसके लिए अपने-अपने राज्यों में एक सामाजिक आंदोलन बनाने की आवश्यकता है।

बेटी बचाओ बेटी पढाओ अभियान का कुछ ही वर्षों में अच्छा परिणाम मिला है, लोगों की सोच बदली है। हरियाणा जैसे राज्य में, जहां बेटियों की संख्या में भारी कमी आई है, स्थिति में बहुत सुधार हुआ है, उम्मीद है कि यह अभियान इतनी जोर से चल रहा है और भविष्य में और अच्छे परिणाम सामने आएंगे।

हमें खुद से पूछना होगा कि हम क्या कर रहे हैं, क्या यह सही है? समाज की पुरानी सोच कि बेटी बोझ है, खत्म होने की जरूरत है। आज की हर घटना के रूप में सोच यह दिखाती है कि बेटी बोझ नहीं है, बेटी ही एकमात्र है जिसके पास पूरे परिवार का सम्मान है।

हमें अपनी बेटियों पर गर्व है जब हमें महसूस होता है कि भारत की बेटी अंतरिक्ष की यात्रा पूरी करके लौट आई है। हमें अपनी बेटियों पर गर्व है जब सुनते हैं कि हमारी बेटियों ने ओलंपिक में पदक जीते हैं।

समाज में ऐसे लोग भी हैं जो मानते हैं कि एक बेटा है, यह बुढ़ापे में हमारी सेवा करेगा, लेकिन आज स्थिति अलग है। हम एक ऐसे परिवार को देखते हैं जहां बेटे अपने बूढ़े माता-पिता को बुढ़ापे में छोड़ देते हैं। आज, एक बेटी अपने बूढ़े माता-पिता की सेवा के लिए भी शादी नहीं करती है, अपने माता-पिता के रोजगार में मदद करती है।

हम ऐसे समाज को देखना चाहते हैं, जहां पूरे मोहल्ले में मिठाई बांटी जाए, बेटी पैदा होने पर जश्न मनाया जाए।

बेटी को पढ़ाने के संकल्प के साथ, मैं अपनी आवाज़ को यहाँ विराम देता हूँ, बहुत-बहुत धन्यवाद!

बेटी बचाओ बेटी पढ़ो pdf download in Hindi

पीडीऍफ़ में डाउनलोड करने के लिए यहाँ क्लिक करें – Beti Bachao Beti Padhao PDF download

The post बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ पर निबंध/भाषण/pdf appeared first on रोशनदान.


शिक्षा का महत्त्व Essay on Importance of Education in Hindi

दोस्तों, आइये देखते हैं शिक्षा का महत्त्व निबंध Essay on Importance of Education in Hindi यह लेख आपको जानने में मदद...

दोस्तों, आइये देखते हैं शिक्षा का महत्त्व निबंध Essay on Importance of Education in Hindi

यह लेख आपको जानने में मदद करेगा:

  • शिक्षा क्या है?
  • शिक्षा हमारे जीवन में महत्वपूर्ण क्यों है?
  • समाज के लिए शिक्षा का महत्त्व
  • मूल्य आधारित शिक्षा का महत्त्व

ESSAY की संरचना:

250 शब्द (निम्न श्रेणी के छात्रों के लिए)
400 शब्द (उच्च वर्ग के छात्रों के लिए)
1200 शब्द (अपने निबंध की संरचना के लिए इस लेख की सहायता लें)

शिक्षा का महत्व – निबंध (250 Words)

किसी के जीवन में शिक्षा एक महत्वपूर्ण मुद्दा है। यह भविष्य में सफलता की कुंजी है और हमारे जीवन में कई अवसर हैं। लोगों के लिए शिक्षा के कई फायदे हैं। उदाहरण के लिए, यह एक व्यक्ति के दिमाग और सोच को रोशन करता है। यह छात्रों को विश्वविद्यालय से स्नातक होने के दौरान काम की योजना बनाने या उच्च शिक्षा हासिल करने में मदद करता है।

एक क्षेत्र में एक शिक्षा होने से लोगों को सोचने, महसूस करने और व्यवहार करने में मदद मिलती है जो उनकी सफलता में योगदान देता है, और न केवल उनकी व्यक्तिगत संतुष्टि बल्कि उनके समुदाय को भी बेहतर बनाता है।

इसके अलावा, शिक्षा एक मानव व्यक्तित्व, विचारों को विकसित करती है, दूसरों के साथ व्यवहार करती है और लोगों को जीवन के अनुभवों के लिए तैयार करती है। यह लोगों को अपने समाज और हर जगह वे रहते हैं में एक विशेष स्थिति है।

मेरा मानना ​​है कि हर कोई पालने से लेकर कब्र तक शिक्षा का हकदार है।

शिक्षा प्राप्त करने के विभिन्न लाभ हैं जैसे कि एक अच्छा कैरियर होना, समाज में एक अच्छा दर्जा होना और आत्मविश्वास होना।

सबसे पहले, शिक्षा हमें अपने जीवन में एक अच्छा करियर बनाने का मौका देती है। हमारी इच्छा के अनुसार किसी भी कार्यस्थल में काम करने के लिए हमारे पास बहुत सारे मौके हो सकते हैं। दूसरे शब्दों में, बेहतर रोजगार के अवसर अधिक और आसान हो सकते हैं। हम जितने उच्च शिक्षित हैं, उतने ही अच्छे अवसर हमें मिलते हैं।

Essay on Importance of Education in Hindi (400 Words)

शिक्षा हमारे दिमाग को चमकाती है, हमारे विचारों को पुष्ट करती है, और दूसरों के प्रति हमारे चरित्र और व्यवहार को मजबूत करती है। यह हमें सामान्य रूप से विभिन्न क्षेत्रों में जानकारी और विशेष रूप से हमारी विशेषज्ञता से लैस करता है; विशेष रूप से हमें अपने नौकरी करियर में मास्टर करने की आवश्यकता है।

इसलिए, शिक्षा के बिना हम ठीक से जीवित नहीं रह सकते हैं और न ही एक अच्छा पेशा है। इसके अलावा, शिक्षा हमें समाज में एक अच्छी स्थिति प्रदान करती है। शिक्षित लोगों के रूप में, हमें अपने समाज के लिए ज्ञान का एक मूल्यवान स्रोत माना जाता है।

एक शिक्षा होने से हमें अपने समाज में दूसरों को नैतिकता, शिष्टाचार और नैतिकता सिखाने में मदद मिलती है। इस कारण से, लोग हमारे साथ उत्पादक और संसाधनपूर्ण तरीके से व्यवहार करते हैं।

इसके अलावा, शिक्षा हमें समाज में रोल मॉडल बनाती है जब हमारे लोगों को हमें सही तरीके से मार्गदर्शन करने की आवश्यकता होती है या जब वे कोई निर्णय लेना चाहते हैं। इस प्रकार, हमारे लिए अपने समुदाय की सेवा करना और उसकी उन्नति में योगदान करना हमारे लिए एक सम्मान की बात है।

वास्तव में, शिक्षित होना हमारे लोगों की मदद करने और एक अच्छे समाज के निर्माण के लिए एक फायदा है। इसके अलावा, यह बहुत अच्छी तरह से जाना जाता है कि आत्मविश्वास हमेशा शिक्षा से उत्पन्न होता है। हमारे लिए आत्मविश्वास का होना बहुत बड़ा आशीर्वाद है जो जीवन में कई फायदे और सफलता दिलाता है।

इसके अतिरिक्त, आत्मविश्वास होना आमतौर पर उचित शिक्षा पर आधारित होता है; हमारे सफल होने का मार्ग प्रशस्त करता है। तदनुसार, आत्मविश्वास हमें इस बात से अवगत कराता है कि हम किसी कार्य या कार्यों की कितनी अच्छी प्रस्तुति करते हैं। संक्षेप में, शिक्षित होना निस्संदेह आत्मविश्वासी और जीवन में सफल होना है।

सब सब में, शिक्षा ज्ञान और जानकारी प्राप्त करने की प्रक्रिया है जो एक सफल भविष्य की ओर ले जाती है।

जैसा कि ऊपर चर्चा की गई है, शिक्षा होने के कई सकारात्मक लक्षण हैं; जैसे कि एक अच्छा करियर, समाज में एक अच्छा स्टेटस और आत्मविश्वास होना। शिक्षा हमें बाधाओं को बिना किसी भय के दूर करने की चुनौतियों के रूप में देखती है; नई चीजों का सामना करना।

यह सफल लोगों और विकसित देशों की योग्यता के पीछे मुख्य कारक है। इसलिए, भविष्य की किसी भी सफलता के पीछे शिक्षा को एक वास्तविक सफलता माना जाता है।

Shiksha Ka Mahatva Essay शिक्षा का महत्त्व निबंध (1200 Words)

essay on importance of education in hindi
Essay on Importance of Education in Hindi

शिक्षा एक आवश्यक मानवीय गुण, समाज की आवश्यकता, एक अच्छे जीवन का आधार और स्वतंत्रता का प्रतीक है।

वास्तव में शिक्षा क्या है?

यहाँ Dictionary.com द्वारा शिक्षा की परिभाषा है।

“सामान्य ज्ञान प्रदान करने या प्राप्त करने का कार्य या प्रक्रिया, तर्क और निर्णय की शक्तियों को विकसित करना, और आमतौर पर परिपक्व जीवन के लिए स्वयं या दूसरों को बौद्धिक रूप से तैयार करना।”

खैर, शिक्षा केवल स्कूलों या कॉलेजों तक सीमित नहीं है, न ही यह केवल उम्र तक सीमित है। व्यावहारिक जीवन में होने वाली बातें भी हमें शिक्षित करती हैं।

शिक्षा पर अपने विचार व्यक्त करते हुए, स्वामी विवेकानंद ने कितनी खूबसूरती से टिप्पणी की है:

शिक्षा एक आदमी में पहले से मौजूद पूर्णता की अभिव्यक्ति है।

शिक्षा – इसका हमारे जीवन में कितना बड़ा अर्थ है, लेकिन दुख की बात यह है कि इस तथ्य को कम कर दिया गया है कि यह हमारी आजिविका का स्रोत बन जाएगा – इससे ज्यादा और कुछ भी कम नहीं।

क्या शिक्षा जीवन को बेहतर बनाने का एक तरीका नहीं है? मेरा मानना ​​है कि शिक्षा जीवन का सहायक नहीं है, बल्कि यह एक आवश्यकता है। शिक्षा ज्ञान, आत्म-संरक्षण और सफलता का वाहन है।

शिक्षा न केवल हमें सफल होने के लिए एक मंच प्रदान करती है, बल्कि सामाजिक आचरण, शक्ति, चरित्र और आत्म-सम्मान का ज्ञान भी देती है।

सबसे बड़ी उपहार शिक्षा हमें बिना शर्त प्यार और मूल्यों का ज्ञान है। इन मूल्यों में सही और गलत के बीच सरल अंतर, भगवान में एक विश्वास, कड़ी मेहनत और आत्म-सम्मान का महत्व शामिल है।

शिक्षा एक सतत सीखने का अनुभव है, लोगों से सीखना, सफलता और असफलताओं से सीखना, नेताओं और अनुयायियों से सीखना और फिर वह व्यक्ति बनना जो हम होने के लिए हैं। मूल्य-आधारित शिक्षा किसी भी लिंग और आयु के किसी भी व्यक्ति का तीन गुना विकास है, लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि एक बच्चे के लिए।

शिक्षा तीन पहलुओं को विकसित करने की कोशिश करती है: काया, मानसिकता और चरित्र। भले ही काया और मानसिकता महत्वपूर्ण हो। चरित्र इनमें से सबसे बड़ा है।

मूल्य-आधारित शिक्षा एक उपकरण है जो न केवल हमें एक ऐसा पेशा प्रदान करता है जिसे हम आगे बढ़ा सकते हैं बल्कि जीवन में एक उद्देश्य भी बना सकते हैं। हमारे जीवन का उद्देश्य निस्संदेह स्वयं को जानना और स्वयं होना है। हम ऐसा तब तक नहीं कर सकते जब तक हम अपने आप को उस जीवन के साथ पहचानना न सीख लें।

शिक्षा हमें यह ज्ञान देती है, स्वयं को जानने का सबसे सर्वोच्च ज्ञान जो हमें अपने जीवन को बेहतर और उद्देश्यपूर्ण बनाने में मदद करता है।

भारत, जिसकी भूगोल, संस्कृति, मूल्यों और मान्यताओं में एक शानदार विरासत और विविधता है, जो इस विस्तृत दुनिया में बहुत कम ही देखने को मिलती है। शिक्षा का उद्देश्य मूल्य प्रणाली के एक छात्र को शिक्षित करना होना चाहिए जो एक सफल जीवन जीने के लिए अपरिहार्य है।

Essay on Importance of Education in Hindi शिक्षा का महत्त्व

शिक्षा हमारे जीवन में इतनी महत्वपूर्ण क्यों है?

पहली बात जो मुझे शिक्षा के बारे में बताती है वह है ज्ञान प्राप्ति। शिक्षा हमें अपने आसपास की दुनिया का ज्ञान देती है और इसे कुछ बेहतर में बदल देती है। यह हमारे अंदर जीवन को देखने का एक दृष्टिकोण विकसित करता है।

यह केवल पाठ्यपुस्तकों के पाठों के बारे में नहीं है। यह जीवन के पाठ के बारे में है।

इस दुनिया में रहने वाले हर व्यक्ति के लिए शिक्षा बहुत जरूरी है। डॉक्टर, वैज्ञानिक, किसान, कलाकार, लेखक और पूर्णकालिक घुमंतू, सभी मिलकर इस दुनिया को एक सुंदर, विविध जगह बनाने के लिए काम करते हैं।

इसमें आपकी दुनिया को खूबसूरत बनाने की ताकत है। हां, शिक्षा जीवन का एक बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा है। जीवन में शिक्षा के महत्व को निम्नलिखित बिंदुओं के तहत अच्छी तरह से समझा जा सकता है:

१. शिक्षा बेहतर नागरिक बनाती है

आदमी एक जानवर के अलावा और कुछ नहीं है। यह वह शिक्षा है जो उसे बहुत सी बातें सिखाती है, शिष्टाचार, जीवन के नियम आदि सिखाती है। इन सभी बातों के परिणामस्वरूप मनुष्य को एक जानवर से एक अच्छे नागरिक के रूप में परिवर्तित किया जाता है।

२. आत्मविश्वास लाती है

यदि हम अपने आप में विश्वास नहीं रखते हैं तो जीवन में कुछ भी हासिल नहीं किया जा सकता है। शिक्षा वह है जो हममें आत्मविश्वास लाती है। हमें अपने दम पर काम करने का आत्मविश्वास मिलता है। हमारा आत्मविश्वास तब हमारे रास्ते पर आने वाली सभी कठिनाइयों को पार करने में हमारी मदद करता है। शिक्षा हमें दूसरों के साथ संचार में भी बेहतर बनाती है।

३. एक उज्ज्वल भविष्य सुनिश्चित करती है

एक शिक्षित व्यक्ति हमेशा खुशहाल जीवन जीता है। उसके पास एक उज्ज्वल भविष्य है जिसे कोई भी उनसे नहीं खींच सकता है। शिक्षा किसी भी व्यक्ति की छिपी हुई प्रतिभा और कौशल को जगाती है। यह छिपी हुई प्रतिभा और कौशल हमें रोजगार और पूरी तरह से सुरक्षित भविष्य प्रदान करते हैं। यह वह शिक्षा है जो हमें अपने जीवन में नई ऊंचाइयों को प्राप्त करने में मदद करती है।

४. चरित्र निर्माण

शिक्षा लोगों को व्यक्तियों के रूप में बढ़ने में मदद करती है। यह आपके दिमाग को कई चीजों के लिए खोलता है जिन्हें आपने पहले उजागर नहीं किया था।

शिक्षा सामाजिक कौशल, समस्या को सुलझाने के कौशल, निर्णय लेने के कौशल और रचनात्मक सोच कौशल का निर्माण करने में मदद करती है। यह आपको विभिन्न संस्कृतियों, धर्मों और विचार प्रक्रियाओं से परिचित कराता है।

यह भी पढ़ें – भारत के चहेते Dr. APJ Abdul Kalam Quotes

Essay on Value-based Education in Hindi

आधुनिक शिक्षा प्रणाली पर निबंध

कोई संदेह नहीं है कि शिक्षा मानव जीवन में एक प्रमुख भूमिका निभाती है। आध्यात्मिक जीवन की बात करने के लिए नहीं, हम शिक्षा के बिना भी सांसारिक जीवन का आनंद नहीं ले सकते।

यदि पेशेवर ज्ञान हमारे पेशेवर कौशल को विकसित करता है, तो आध्यात्मिक ज्ञान हमें जीवन के सर्वोच्च लक्ष्य को प्राप्त करता है जो आत्म-साक्षात्कार है।

इसके अलावा, यह सच है कि औपचारिक स्कूल और कॉलेज की शिक्षा हमें इंजीनियर, डॉक्टर, शिक्षक, कंप्यूटर विशेषज्ञ ही बना सकती है। इस तरह की औपचारिक शिक्षा की आवश्यकता है, और इसका हमारे जीवन में महत्व है। लेकिन यह भी उतना ही उल्लेखनीय है कि इस तरह की औपचारिक शिक्षा हमें एक अच्छा इंसान नहीं बना सकती है।

मूल्य आधारित शिक्षा का महत्त्व

यह मूल्यों के साथ शिक्षा है जो हमें एक अच्छा इंसान बना सकती है, और हमें जीवन के सर्वोच्च लक्ष्य को प्राप्त करने में भी मदद कर सकती है।

मूल्य-आधारित शिक्षा नैतिकता, अखंडता, चरित्र, आध्यात्मिकता और बहुत कुछ प्रदान करती है। यह एक व्यक्ति में विनम्रता, शक्ति और ईमानदारी के गुणों का निर्माण करता है।

उच्च नैतिक मूल्यों वाले लोग कभी दूसरों को धोखा नहीं देंगे। लोगों को एक-दूसरे के साथ सहयोग करना सिखाया जाता है। वे अपना जीवन खुशहाल बनाते हैं और दूसरों को खुश करने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं। हमारे इतिहास और पौराणिक कथाओं ने हमें उत्कृष्ट मूल्यों की शिक्षा दी।

हमारी सांस्कृतिक विरासत

हम भारतीय, हमारी सांस्कृतिक विरासत की बात करते हैं। हम राम, कृष्ण, राजा हरिश्चंद्र, सीता, सावित्री के चरित्रों के बारे में बहुत सारी बातें करते हैं और इस मामले के लिए कई और बुद्ध, महावीर, कवि, रविदास, चैतन्य, रामकृष्ण, विवेकानंद, और रामानुजन।

अच्छा है कि भारत के पास इन महापुरुषों-धर्मावलंबियों और ईश्वरीय रूप से हमारी विरासत का एक हिस्सा है। हमें आदर्शों की तलाश करने के लिए कहीं बाहर नहीं जाना है।

The post शिक्षा का महत्त्व Essay on Importance of Education in Hindi appeared first on रोशनदान.


[Top 33] Slogans on Environment in Hindi – पर्यावरण बचाओ पर नारे

हमारा जीवन पूरी तरह से पर्यावरण पर आधारित है। पर्यावरण के कारण, हम शुद्ध हवा में सांस...

हमारा जीवन पूरी तरह से पर्यावरण पर आधारित है। पर्यावरण के कारण, हम शुद्ध हवा में सांस लेने में सक्षम हैं। शुद्ध पानी और शुद्ध भोजन का उपभोग करते हैं। पर्यावरण न केवल हमें शारीरिक रूप से स्वस्थ रखने में मदद करता है बल्कि मानसिक रूप से भी हमें शांति का अनुभव कराता है।

Slogans on Environment in Hindi

पर्यावरण मानव जीवन का एक महत्त्वपूर्ण अंग है, इसके बिना स्वस्थ जीवन की कल्पना करना मुश्किल है, लेकिन यह अफसोस की बात है कि आज लोग अपने लालच और भौतिक सुखों का आनंद लेने की इच्छा के कारण प्रकृति और पर्यावरण का गंभीर दुरुपयोग कर रहे हैं।

दूसरी ओर, अगर भविष्य में पर्यावरण को बचाने के लिए सख्त कदम नहीं उठाए गए, तो मानव जीवन खतरे की कगार पर आ सकता है।

तो पर्यावरण को बचाने और लोगों को इसके प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से, आज हम आपको कुछ नारों के बारे में बताएंगे जो पर्यावरण को संरक्षित करने के उद्देश्य से ही लिखे गए हैं। ये आपके अन्दर पर्यावरण को बचाने की भावना विकसित करेंगे।

यदि आप इन नारों को अपने परिवार और दोस्तों के साथ फेसबुक, व्हाट्सएप या अन्य सोशल साइट्स के माध्यम से साझा करते हैं, तो अन्य लोग भी पर्यावरण को बचाने के लिए आगे बढ़ेंगे। विकसित, स्वच्छ और स्वस्थ समाज के निर्माण में मदद कर सकेंगे।

Slogans on Environment in Hindi – पर्यावरण पर नारे

गली-गली में पेड़ लगाओ, हर प्राणी में आस जगाओ.

आओ ये संकल्प उठाए, पर्यावरण को नष्ट होने से बचाएँ।

save environment slogan
save environment slogan

धरती माँ करे पुकार, अब और न करो अत्याचार।

वृक्ष नही कटने पाएँ, हरियाली न मिटने पाए, लेकर एक नया संकल्प, हर एक दिन नया वृक्ष लगाएँ।

पर्यावरण बचाओ नारे
Slogans on Environment in Hindi

हरे रंग से प्यार करो, अपने पर्यावरण को बचाओ।

समय बर्बाद करना बेकार है पर्यावरण की सफाई सबसे अच्छा है।

slogan on save environment
slogan on save environment

स्वर्ग को धरा पर लाना है, भारत को स्वच्छ बनाना है

ऊँचे वृक्ष घने जंगल ये सब हैं प्रकृति के वरदान।
इसे नष्ट करने के लिए तत्पर खड़ा है क्यों इंसान।

environment slogans in hindi
save environment slogans in hindi

Save Environment Quotes in Hindi – पर्यावरण बचाओ

पृथ्वी हमारी माता है। उसे नुकसान पहुंचाने की हमारी इच्छा के बावजूद, वह हमेशा हमसे प्यार ही करेगी।

यदि मानवता को लंबे समय तक रहना है, तो आपको पृथ्वी की तरह सोचना होगा, पृथ्वी के रूप में कार्य करना होगा और पृथ्वी होना होगा क्योंकि ये वैसी ही है जैसे आप हैं। – सदगुरु

slogan on environment in hindi
slogan on environment in Hindi

यदि हम पृथ्वी को सुंदरता और आनंद उत्पन्न करने की अनुमति नहीं देते हैं, तो यह अंत में भोजन का उत्पादन नहीं करेगी। – जोसेफ वुड

यदि हम पर्यावरण को नष्ट करते हैं, तो हमारे पास एक समाज नहीं है। -मार्गरेट मीड

environment slogans in hindi
Slogans on Environment in Hindi

कीचड़ के साथ साफ पानी प्रदूषित करने से आपको अच्छा पेयजल कभी नहीं मिलेगा। – एनेसिलस

जो हम दुनिया के जंगलों के लिए कर रहे हैं, दरअसल वो हम अपने और एक दूसरे के लिए कर रहे हैं. ये उसका दर्पण प्रतिबिंब है। – महात्मा गांधी

पर्यावरण पर नारे
Slogans on Environment in Hindi – पर्यावरण पर नारे

मैं ईश्वर को प्रकृति में, जानवरों में, पक्षियों और पर्यावरण में पा सकता हूँ। – पाट बकले

पक्षी पर्यावरण के संकेतक हैं। यदि वे मुसीबत में हैं, तो हम जानते हैं कि हम जल्द ही मुसीबत में पड़ जाएंगे। – रोजर टोरी पीटरसन

slogan on environment in hindi
slogan on environment in Hindi

अभी बचाओ, बाद में कमाओ। बेहतर भविष्य के लिए अभी से जागरूक हों।

हर दिन पर्यावरण दिवस है, इसलिए अपने पर्यावरण को बचाकर अपने दिन को बचाएं।

save environment slogan
save environment slogan

प्रकृति का सम्मान करें और यह आपको पवित्रता और हरियाली से भरा होगा।

पर्यावरण संरक्षण है बेहद जरुरी

आज पर्यावरण संरक्षण एक ज्वलंत मुद्दा बन गया है। हम प्रदूषण, जलवायु परिवर्तन, जैव विविधता क्षरण और अन्य प्राकृतिक आपदाओं के प्रति प्रतिरक्षित नहीं हैं। ये सभी जागरूकता की कमी का परिणाम हैं। हमें पर्यावरण के प्रति कुछ करना होगा, तभी हम सभी इसके असीमित संसाधनों का लाभ उठा पाएंगे, अन्यथा, हम सभी इसे खो देंगे।

पर्यावरण पर नारे पढ़ें और अपने जीवन में पर्यावरण संरक्षण की भावना पैदा करें। खासकर हमें किताबी ज्ञान के अलावा स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को पर्यावरण का वास्तविक ज्ञान देना चाहिए। हमें एक दूसरे को जगाना होगा, तभी हमारे पर्यावरण की रक्षा होगी।

slogan on environment in hindi
slogan on save environment in hindi

यह भी पढ़ें – 11 सर्वश्रेठ Republic Day Speech in Hindi

save environment
save environment slogan in Hindi
save environment slogan in hindi
Slogans on Environment in Hindi
save environment slogans in hindi
save environment slogans in hindi
पर्यावरण बचाओ पर नारे
Slogans on Environment in Hindi – पर्यावरण बचाओ पर नारे

यह भी पढ़ें – 10 सबसे शानदार देशभक्ति गीत

अंतिम शब्द:

विश्व पर्यावरण दिवस (World Environment Day) हर साल 5 जून को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक अभियान के रूप में मनाया जाता है।

इससे प्रकृति और हमारे सुंदर पर्यावरण के संरक्षण के बारे में लोगों में जागरूकता फैलती है। इस दिन दुनिया भर में पर्यावरण के संरक्षण और संरक्षण से संबंधित कार्यक्रम, सेमिनार आयोजित किए जाते हैं।

पर्यावरण से संबंधित प्रमुख चिंताओं और मुद्दों पर चर्चा करने के लिए लोग एक साथ इकट्ठा होते हैं। कुछ स्थानों पर, लोग एक नया बीज रोपण शुरू करते हैं, पेड़ लगाते हैं, और पर्यावरण को संरक्षित करने के तरीकों पर ध्यान केंद्रित करते हैं।

अब इस आंदोलन में योगदान देने के लिए इस वर्ष आपकी बारी है। तो इन प्रेरणादायक विश्व पर्यावरण के नारों को अपने दोस्तों, परिवार और प्रिय के साथ साझा करना शुरू करें। इस दिन को मनाने के लिए हाथ मिलाएं। 🤝

The post [Top 33] Slogans on Environment in Hindi – पर्यावरण बचाओ पर नारे appeared first on रोशनदान.


इन्होंने देखी हैं असली जलपरियाँ Jalpari Ka Rahasya

इस संसार में बहुत सी ऐसी रहस्यमयी चीजें हैं जो इंसान और विज्ञान को चुनौती देती आई...

इस संसार में बहुत सी ऐसी रहस्यमयी चीजें हैं जो इंसान और विज्ञान को चुनौती देती आई हैं। ऐसी ही रहस्यमयी चीजों में से एक है – जलपरी, जिसे हम आज तक सिर्फ दंत कथाओं में सुनते आ रहे हैं लेकिन उनके वजूद का कोई ठोस प्रमाण आज तक नहीं मिल पाया।

Mermaid Mystery/Facts in Hindi

अगर इतिहास खंगाल कर देखें तो हमें ऐसी बहुत सी कहानियां मिलती हैं जो जलपरी के वजूद को सही प्रमाणित करती हैं। वैसे इसमें कितनी सच्चाई है यह कोई नहीं जानता। तो आइए देखते हैं ये लेख जहां हम जानेंगे कुछ ऐसे ही रहस्यमयी सवालों के जवाब। Asli Jalpari ka Rahasya (असली जलपरी का रहस्य)

क्रिस्टोफर कोलंबस ने देखी थी 3 असली जलपरियाँ

सन 1493 में क्रिस्टोफर कोलंबस ने डोमिनिक रिपब्लिकन के करीब से समुद्र में यात्रा करते समय तीन जल परियों को देखने का दावा किया था। कोलंबस ने अपने एक लेख में यह भी लिखा था कि उसकी आंखों के सामने समुद्र में मानव मछली की तरह एक जंतु दिखाई दिया था।

वैसे कोलंबस ने जलपरियों का जैसा विश्लेषण अपनी किताब में किया है उसे आज हम पेंटिंग्स में नहीं देख पाते।कोलंबस कि इन्होंने समुद्री विज्ञान के सामने सवाल खड़े कर दिए हैं। कुछ वैज्ञानिकों का तो यह भी मानना है कि उन्होंने जल परियां नहीं मेनितीस देखी थी।

जैसा कि हम जानते हैं पाषाण काल में ही मानव ने गुफा चित्रण करना शुरू कर दिया था। जो आज भी हम दुनिया के हर कोने में देख सकते हैं। मिस्र के प्राचीन गुफाओं में कई सारे ऐसे चित्र मिले हैं जिनमें इंसान जलपरी का शिकार कर रहे हैं। क्योंकि उस काल में मानव के पास लिखने पढ़ने के गुण नहीं थे इसलिए उन्होंने अपने अंदर के भाव प्रकट करने के लिए चित्रकला का सहारा लिया। चित्रकला को समझने वालों का मानना है कि शिकार ही वह कारण था जिसकी वजह से जलपरियां इंसानों से छुप कर रहती थी जो आज भी जलपरियों के होने के वजूद को सिद्ध करता है।

डॉ जे. ग्रिफिन के पास थी असली जलपरी

Asli jalpari ka rahasya
असली जलपरी (Asli Jalpari)

जुलाई 1842 न्यूयॉर्क, अमेरिका – ब्रिटिश द सीएम ऑफ नेचुरल हिस्ट्री के मेंबर डॉ जे. ग्रिफिन नामक व्यक्ति ने यह दावा किया कि उनके पास एक असली की जलपरी है जिसे उन्होंने साउथ पेसिफिक में मौजूद फिजी आईलैंड से पकड़ा है। यह खबर न्यूयॉर्क सिटी में आग की तरह फैल गई और मीडिया वाले जमा होने लगे और जलपरी को दिखाने की बात कही।

और फिर ग्रिफिन ने जो दिखाया वह 100% सच साबित हुआ जिसे देख लोगों ने यह मान लिया कि वह वास्तव में एक जलपरी है। फिर दूसरे ही दिन मीडिया वालों ने इस बारे में छापा जिसे पढ़कर एक सर्कस वाले ने ग्रिफिन से वह जलपरी मुंह मांगी रकम में खरीदनी चाहिए पर उन्होंने उसे नहीं बेचा।

सालों बाद 1865 में एक बार फिर से लोगों के लिए प्रदर्शित किया जाना था पर इसके 2 दिन पहले ही म्यूजियम में आग लग गई जहां इस मरमेड (जलपरी) को रखा गया था। इसके बाद से इस जलपरी को कभी भी नहीं देखा गया पर कुछ विचारकों का यह मानना था कि यह आग एक सोची समझी चाल थी जिससे सबूतों को मिटाया जा सके।

जलपरियों पर डॉक्यूमेंट्री

सन 2012 में डिस्कवरी और एनिमल प्लेनेट पर एक डॉक्यूमेंट्री चलाई गई जिसका नाम था मरमेड – द बॉडी फाउंड। इस डॉक्यूमेंट्री में अनिमेशन के जरिए जल परियों के अस्तित्व को दर्शाने की कोशिश की गई थी जो लोगों के बीच में काफी दिनों तक चर्चा का विषय बन गई।

इसके 1 साल बाद मरमेड – द न्यू एविडेंस नाम से एक और डॉक्यूमेंट्री चलाई गई जिसमें समुद्र के अंदर एक साइंटिफिक टीम द्वारा इन्वेस्टिगेशन के वीडियो फुटेज को दर्शाया गया। लेकिन सबसे खास बात तो यह थी कि इस इन्वेस्टिगेशन में ली गई फुटेज जो सामने आई वह निश्चित ही चौंकाने वाली थी, जिसे देख किसी भी आम इंसान की सांसे थम जाएं।

kya jalpariya sach me hain
Asli Jalpari ka Rahasya

तो जैसा कि आप देख सकते हैं कि इस फुटेज में एक समुद्री जीव कैमरे में नजर आता है जिसका आधा शरीर इंसान का तो आधा मछली जैसा है जो जल परियों के अस्तित्व को पूरी तरह से सिद्ध करते नजर आता है।

लेकिन शो के आखिरी में कुछ सेकंड के लिए एक डिस्क्लेमर था जिस पर यह साफ लिखा था कि यह एक साइंस फिक्शन शो है जो सत्य घटनाओं पर आधारित है। इस डॉक्यूमेंट्री में दिखाए गए NOAA यानी National Oceanic and Atmospheric Administration के वैज्ञानिक पैड आर्टिस्ट थे जो कि NOAA के मुताबिक जल परियों से संबंधित ऐसी कोई जानकारी उनके हाथ ही नहीं लगी थी।

वैसे इसी के साथ शुरू हुई समुद्री जल परियों पर शोध जिसमें पूरे विश्व के बड़े से बड़े वैज्ञानिक अपनी रिसर्च आगे बढ़ाते गए। जिसके बाद से सोशल मीडिया पर ऐसी वीडियो और तस्वीरें सामने आती रहीं जो हमेशा से जल परियों की जिंदगी पर सवाल उठाती रही। हालांकि इन सभी के प्रश्नों पर रोक लगा दी जाती है या फिर इनको सभी को आम जनता से दूर रखा जाता है।

अगर आप हिंदू पौराणिक कथाओं को देखते हैं –

जलपरी का रहस्य
Mermaid Mystery in Hindi

हमें महाभारत और भारतीय रामायण के थाई और कंबोडियन संस्करणों में मत्स्यांगना का भी उल्लेख मिलता है। थाई और कंबोडियन संस्करणों में, रावण की बेटी सुवर्णमच्छा का उल्लेख किया गया है, जो एक सोने की मत्स्यांगना थी। महाभारत के अनुसार, अर्जुन की पत्नी उलूपी का उल्लेख कई स्थानों पर जलपरी के रूप में भी मिलता है। कहा जाता है कि वह एक नागकन्या थी जो पानी में रहती थी। इसके अलावा, उल्लेख भगवान विष्णु के मत्स्य अवतार का भी है, जिनका शरीर का ऊपरी हिस्सा मानव था और निचला हिस्सा मछली की तरह था।


यह भी पढ़ें – महाभारत में “18” का अनसुलझा रहस्य

तो क्या हम बचपन में जिन कथा और कहानियों में जलपरी का नाम सुनते आ रहे हैं, क्या वह हमारी एक कल्पना मात्र है जिससे आए दिन हम दुनिया के कई कोनों में उनके जीवाश्म को पाए या देखे जाने की खबरें सुनते हैं? क्या वह सब झूठ हैं, केवल एक मिथ ही हैं?

मुझे तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं लगता क्योंकि युगों युगों से चली आ रही इस जलपरी की कल्पना में कुछ तो सच्चाई होगी। जलपरी के बारे में विकिपीडिया पर पढ़ें.

तो दोस्तों क्या आप भी जलपरियों के वजूद के होने की बात पर विश्वास रखते हैं हमें कमेंट करके जरूर बताएं और यदि यह लेख आपको अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें और ऐसे रहस्यमयी लेख पढ़ना चाहते हैं तो अभी हमारे रोशनदान ब्लॉग को बुकमार्क करें। धन्यवाद।

यह भी पढ़ें – भगवान राम की मृत्यु का कारण क्या था?

Read Mermaids Caught – Asli Jalpari Ka Rahasya

The post इन्होंने देखी हैं असली जलपरियाँ Jalpari Ka Rahasya appeared first on रोशनदान.


Link to Category: Culture Blogs

Or if you prefer use one of our linkware images? Click here

Social Bookmarks


Available Upgrade

If you are the owner of Roshandaan, or someone who enjoys this blog why not upgrade it to a Featured Listing or Permanent Listing?


We provide Greater link exposure in search engines